Read now

Soya Mann Jag Jaye

सोया मन जग जाए मन का अस्तित्व दो चरणों में है यह सोता भी है और जागता भी है। यदि वह सोया नहीं है और जागता रहता है तो इस संदर्भ में मन का अर्थ- ध्यानशक्ति धारित मनुष्य सत्य को सुनता है, उसे पता है लेकिन उस पर विचार नहीं करता है। ध्यान के अभाव में वह नहीं जान पाता है जो सत्य दिख रहा है वह सत्य नहीं है। यह अनुभव के स्तर पर नहीं है।
Author :
Category : Books
Sub Category : General
Language : Hindi
No. of Pages : 279
Keywords : a

Share :