Read now

Bhed Main Chhipa Abhed

आदमी जानता है और उसमें कर्म करने का सामथ्र्य है तो अहंकार के लिए खुला निमंत्रण मिल जाता है। व्यक्ति जानने की शक्ति और कर्म करने की शक्ति- दोनों से संपन्न हो और अहंकारी ना हो तो बात हो सकती है। जीवन में अहंकार आता है, जीवन टूटना शूरू हो जाता है। अहंकार से बचने का उपाय है भक्ति योग। समर्पण, विश्वास और श्रद्धा का भाव प्रबल होता है तो अहंकार को पनपने का अवसर नहीं मिलता।
Language title : भेद में छिपा अभेद
Author :
Category : Books
Sub Category : Adhyatmik
Sect :
Language : Hindi
No. of Pages : 159
Keywords : a

Advertisement

Share :